SI बोला- थाने आकर रोती थी तो दया आ गई, उसने हनी ट्रेप कर मुझे फंसाया

harassment-case-accused-sent-to-remand
जोधपुर(राजस्थान). पति को हिरासत से रिहा करने के बदले उसकी पत्नी से रिश्वत में अस्मत मांगने के आरोप में गिरफ्तार एसआई कमलदान चारण को बुधवार शाम ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के घर पेश किया गया। वहां से उसे 2 दिन के लिए रिमांड पर भेज दिया। मामले में आरोपी एसआई कहना है कि महिला अपने पति की रिहाई के लिए रोजाना थाने के चक्कर काटती थी और रोती थी। मुझे उसपर दया आ गई। बाद में उसने मुझे हनी ट्रेप में फंसा दिया। कोड में बोला ‘दो कप कॉफी’ और वो पकड़ा गया…
शिकायत करने वाली महिला ने बताया कि मेरे पति पंकज को पुलिस वालों ने अफीम के झूठे केस में फंसाया और अपने थाने के स्टाफ को बोला कि मुर्गा फंस गया है, इसे चांदी के जूते मारो।
कमलदान ने फोन करके मुझे थाने बुलाया। मेरे पति को छोड़ने के बदले दो लाख रु. मांगे। मेरे पास कैश नहीं था, तो एक लाख कैश व एक लाख का चेक दिया। 6 तारीख से वो रोज फोन और मैसेज से मुझे परेशान करने लगा। मेरी रातों की नींद ही उड़ गई। एक तरफ पति की चिंता और दूसरी तरफ अस्मत बचाने की जद्दोजहद। छह दिनों में एक बार भी नहीं सो पाई। 9 तारीख को मैंने एसीबी को शिकायत दी। कमलदान ने फोन पर क्या-क्या कहा, ये सोचकर अब भी कांप उठती हूं। सोमवार को उसने मुझे होटल में बुलाया, मां की बीमारी का बहाना बना खुद को बचाया। मंगलवार को वो घर पर आ गया, पर एसीबी अफसरों ने पहले से ही घेरा डाल रखा था, इसलिए मेरा डर थोड़ा कम हुआ। वो अपने मंसूबों में कामयाब होता, उससे पहले ही मैंने डीएसपी को ‘दो कप कॉफी’ कोड में बोला और वो पकड़ा गया।
थाने आकर रोती तो दया आ गई, हनी ट्रेप कर मुझे फंसाया
एसआई कमलदान के मुताबिक, जब मैंने 3 जून को पंकज को अफीम के साथ गिरफ्तार किया था, उसके बाद से ही वो खुद को पंकज की पत्नी बताती और रोज थाने आकर रोती थी। पंकज के गिरफ्तार होने और फिर जेल जाने के बाद वो खुद को बेसहारा बता बार-बार मदद की गुहार करती थी। मेरे फौजी दिल को उस पर तरस आ गया, और यही मेरी गलती रही। उसने आसुंओं की आड़ में मुझे हनी ट्रेप में फंसाया। पंकज को रिमांड पर लेने के बाद ओंकारसिंह ने मुझसे संपर्क किया। उसने भी मुझसे बेसहारा महिला की मदद करने के लिए सिफारिश की। मैं तो उसे सिर्फ दिलासा देकर सहारा देने की कोशिश कर रहा था। वॉट्सएप पर वो मुझसे बराबर चैटिंग करती थी। मेरे मन में कोई खोट होती, तो पंकज को गिरफ्तारी के वक्त ही जब्ती में अफीम की पूरी मात्रा नहीं बताता। चूंकि, अफीम वाले मामले में और भी कई लोगों के नाम सामने आने की संभावना है, इसी वजह से मेरे खिलाफ ये साजिश रची गई।
ये है पूरा मामला
– राजीव गांधी नगर थानाधिकारी चारण द्वारा 3 जून को की गई कार्रवाई में पंकज को एक किलो अफीम के दूध के साथ पकड़ा गया था।
– जब्त की गई लग्जरी कार छुड़ाने के लिए उसने पंकज की पत्नी से दो लाख रिश्वत मांगी।
– एसीबी के अनुसार, महिला ने एक साथ इतनी नकदी नहीं होने की बात कह 1 लाख कैश और 1 लाख रुपए का चेक बिचौलिए के जरिए दिया था।
– पति की गिरफ्तारी के दो दिन बाद ही टीआई उसकी पत्नी के कॉन्टैक्ट में आया और वॉट्सऐप पर उससे प्यार-मोहब्बत की बातें करने लगा।
– पहले उसने 15 लाख की गाड़ी छोड़ने के लिए 1 लाख रुपए लिए और एक लाख रुपए का चेक बतौर जमानत रखा कि जब वह कैश ला देगी तो उसे चेक लौटा देगा।
– जब महिला पैसों का बंदोबस्त नहीं कर पाई तो उसने दूसरा ऑफर दिया। यह ऑफर उसके साथ ‘एन्जॉय’ करने का था। महिला सीधा एसीबी के दफ्तर पहुंची और वहां उसने पूरी बात बताई।
– मंगलवार रात गश्त से पहले थानाधिकारी ‘एन्जॉय’ करने महिला के घर पहुंच गया। उसने कमरा बंद कर लिया, लेकिन अगली दस्तक से दरवाजा खुला तो उसके होश उड़ गए। एसीबी की टीम ने 1 लाख रुपए के चेक के साथ अारोपी को गिरफ्तार कर लिया। मामले में हुई कार्रवाई में आज डीसीपी ने चारण को सस्पेंड कर दिया।

The post SI बोला- थाने आकर रोती थी तो दया आ गई, उसने हनी ट्रेप कर मुझे फंसाया appeared first on MastiWale.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s